भाग्य से ज्यादा और समय से पहले

एक सेठ जी थे जिनके पास काफी दौलत थी.सेठ जी ने अपनी बेटी की शादी एक बड़े घर में की थी.परन्तु बेटी के भाग्य में सुख न होने के कारण उसका पति जुआरी, शराबी निकल गया.जिससे सब धन समाप्त हो गया. बेटी की यह हालत देखकर सेठानी जी रोज सेठ जी से कहती कि आप दुनिया … Continue reading भाग्य से ज्यादा और समय से पहले

Advertisements

इस दुनिया का सबसे शक्तिशाली इंसान कौन है

बूढ़ा पिता अपने IAS बेटे के चेंबर में  जाकर उसके कंधे पर हाथ रख कर खड़ा हो गया और प्यार से अपने पुत्र से पूछा. "इस दुनिया का सबसे शक्तिशाली इंसान कौन है"? पुत्र ने पिता को बड़े प्यार से हंसते हुए कहा "मेरे अलावा कौन हो सकता है पिताजी "! पिता को इस जवाब … Continue reading इस दुनिया का सबसे शक्तिशाली इंसान कौन है

ये कहानी आपके जीने की सोच बदल देगी

एक दिन एक किसान का बैल कुएँ में गिर गया। वह बैल घंटों ज़ोर -ज़ोर से रोता रहा और किसान सुनता रहा और विचार करता रहा कि उसे क्या करना चाहिऐ और क्या नहीं। अंततः उसने निर्णय लिया कि चूंकि बैल काफी बूढा हो चूका था अतः उसे बचाने से कोई लाभ होने वाला नहीं था और … Continue reading ये कहानी आपके जीने की सोच बदल देगी

अब गरीब आदमी के चहरे पर चमक आ गईं थीं

रात के एक बजा था, एक सेठ को नींद नहीं आ रही थी,वह घर में चक्कर पर चक्कर लगाये जा रहा था। पर चैन नहीं पड़ रहा था ।आखिर मैं थक कर नीचे उतर आया और कार निकाली, शहर की सड़कों पर निकल गया। रास्ते में एक मंदिर दिखा सोचा थोड़ी देर इस मंदिर में जाकर … Continue reading अब गरीब आदमी के चहरे पर चमक आ गईं थीं

इसलिए परिवार के बिना जीवन नहीं

जो *पिता* के पैरों को छूता है   वो कभी *गरीब* नहीं होता। जो *मां* के पैरों को छूता है  वो कभी *बदनसीब* नही होता। जो *भाई* के पैराें को छूता है  वो कभी *गमगीन* नही होता। जो *बहन* के पैरों को छूता है  वो कभी *चरित्रहीन* नहीं होता। जो  "गुरू " के पैरों को छूता है उस जैसा … Continue reading इसलिए परिवार के बिना जीवन नहीं

गलतियों को क्षमा करके उसको गले से लगाना ही इंसानियत है।

इंसान गलतियो का पुतला है, जाने अनजाने कितनी गलतियां करता रहता है। एक इंसान होने के नाते हम सभी का फर्ज बनता है कि दूसरे की गलतीयो को नजर अंदाज करेऔर अगर कोई अपनी गलती स्वीकार करता और क्षमा मांगता है तो तुरन्त उसे क्षमा कर दे। वैसे हम सभी के अंदर एक बहुत बुरी … Continue reading गलतियों को क्षमा करके उसको गले से लगाना ही इंसानियत है।

मेरी जगह  नुकसान आ रहा है । तैयार हो जाओ

एक सुनार  से लक्ष्मी  जी  रूठ गई । जाते वक्त  बोली मैं जा रही  हूँ और मेरी जगह  नुकसान आ रहा है । तैयार  हो जाओ। लेकिन  मै तुम्हे अंतिम भेट जरूर देना चाहती हूँ। मांगो जो भी इच्छा  हो। सुनार बहुत समझदार  था। उसने 🙏 विनती  की नुकसान आए तो आने  दो । लेकिन  उससे कहना की मेरे परिवार  में आपसी  … Continue reading मेरी जगह  नुकसान आ रहा है । तैयार हो जाओ

यह कहानी आज जीवन की हकीकत बन चुकी है

🐿एक गिलहरी रोज अपने काम पर समय से आती थी और अपना काम पूरी मेहनत और ईमानदारी से करती थी❗ गिलहरी जरुरत से ज्यादा काम कर के भी खूब खुश थी❗क्यों कि उसके मालिक, जंगल के राजा शेर ने उसे दस बोरी अखरोट देने का वादा कर रखा था❗ गिलहरी काम करते करते थक जाती … Continue reading यह कहानी आज जीवन की हकीकत बन चुकी है

आज रात तेरे सबसे अच्छे दोस्त की परीक्षा लेते है

एक बेटे के अनेक मित्र थे जिसका उसे बहुत घमंड था। पिता का एक ही मित्र था लेकिन था सच्चा। एक दिन पिता ने बेटे को बोला कि तेरे बहुत सारे दोस्त है उनमें से आज रात तेरे सबसे अच्छे दोस्त की परीक्षा लेते है। बेटा सहर्ष तैयार हो गया। रात को 2 बजे दोनों बेटे के … Continue reading आज रात तेरे सबसे अच्छे दोस्त की परीक्षा लेते है

इंसान दूसरो को वही दे पाता है

*अभिमान तब आता है , जब हमे लगता है हमने कुछ काम किया है* *और* *सम्मान तब मिलता है जब दुनिया को लगता है, कि आप ने कुछ महत्वपूर्ण काम किया है*   *जो दूसरों को इज़्ज़त देता है , असल में वो खुद इज़्ज़तदार होता है*   *क्योकि* *इंसान दूसरो को वही दे पाता है … Continue reading इंसान दूसरो को वही दे पाता है

किसी की बुराई मत करो

हमारे घर के अंदर अगर मकड़ी का जाला लग जाता है तो हम उसे झाड़ू से साफ करते है। वह जाला झाड़ू पर चिपक जाता है और हमारे घर की साफ सफाई हो जाती है। ठीक इसी तरह हम किसी की बुराई करते हैं या निंदा करते हैं तो समझो हम झाड़ू का काम कर … Continue reading किसी की बुराई मत करो

पढने के बाद चिल्लाना अवश्य भूल जाओगे

गुस्से में चिल्लाना क्यों होता है ? एक बार एक संत अपने शिष्यों के साथ बैठे थे। अचानक उन्होंने सभी शिष्यों से एक सवाल पूछा। बताओ जब दो लोग एक दूसरे पर गुस्सा करते हैं तो जोर-जोर से चिल्लाते क्यों हैं ? शिष्यों ने कुछ देर सोचा और एक ने उत्तर दिया : हम अपनी … Continue reading पढने के बाद चिल्लाना अवश्य भूल जाओगे

गुरु और भगवान में एक अंतर है

एक आदमी के घर भगवान और गुरु दोनो पहुंच गये। वह बाहर आया और चरणों में गिरने लगा। वह भगवान के चरणों में गिरा तो भगवान बोले- रुको रुको पहले गुरु के चरणों में जाओ। वह दौड़ कर गुरु के चरणों में गया। गुरु बोले- मैं भगवान को लाया हूँ, पहले भगवान के चरणों में जाओ। वह … Continue reading गुरु और भगवान में एक अंतर है

जिसको ये पांच चीजें मिल गईं

एक बार हकीम लुकमान से उसके बेटे ने पूछा, 'अगर मालिक ने फरमाया कि कोई चीज मांग, तो मैं क्या मांगूं?' लुकमान ने कहा, 'परमार्थ का धन।' बेटे ने फिर पूछा, 'अगर इसके अलावा दूसरी चीज मांगने को कहे तो?' लुकमान ने कहा, 'पसीने की कमाई मांगना।' उसने फिर पूछा, 'तीसरी चीज?' जवाब मिला, 'उदारता। … Continue reading जिसको ये पांच चीजें मिल गईं

Meditation क्यों करना चाहिए ?

Meditation  में क्या ताकत है? साधना का क्या महत्व है....? जब 100 लोग एक साथ साधना करते है तो उत्पन्न लहरें 5 कि.मी.तक फैलती है और नकारात्मकता नष्ट कर सकारात्मकता का निर्माण करती है। आईस्टांईन नें वैज्ञानिक दृष्टिकोण से कहा था के एक अणु के विधटन से लगत के अणु का विधटन होता है,इसी को हम अणु विस्फोट कहते … Continue reading Meditation क्यों करना चाहिए ?

भीतर के “मैं” का मिटना ज़रूरी है!

सुकरात समुन्द्र तट पर टहल रहे थे। उनकी नजर तट पर खड़े एक रोते बच्चे पर पड़ी। वो उसके पास गए और प्यार से बच्चे के सिर पर हाथ फेरकर पूछा, तुम क्यों रो रहे हो? लड़के  ने  कहा यह जो मेरे हाथ में प्याला है मैं उसमें इस  समुन्द्र को भरना चाहता हूँ पर … Continue reading भीतर के “मैं” का मिटना ज़रूरी है!

 दो चीजों को कभी व्यर्थ नहीं जाने देना चाहिए – अन्न के कण को और आनंद के क्षण को

महाकवि कालिदास जी एक रास्ते से गुजर रहे थे। वँहा एक  पनिहारिन पानी भर रही थी । कालिदास ने कहा ....... *कालिदास बोले :-* माते पानी पिला दीजिए बङा पुण्य होगा. *स्त्री बोली :-* बेटा मैं तुम्हें जानती नहीं. अपना परिचय दो। मैं अवश्य पानी पिला दूंगी। *कालिदास ने कहा :-* मैं मेहमान हूँ, कृपया … Continue reading  दो चीजों को कभी व्यर्थ नहीं जाने देना चाहिए – अन्न के कण को और आनंद के क्षण को

आँसु एक सहज प्रार्थना है

तुम्हें अगर प्रभु का नाम सुनकर आँसु आते हैं, अगर तुम्हें उसके नाम को लेकर आँसु आते हैं तो जिन्दगी के यही पल सार्थक हैं, मंगलदायी हैं । ये पल प्रभु की कृपा हैं, ये पल उसकी करुणा का प्रसाद हैं । आँसुओं को रोकना मत, उनको बहने देना, उन आँसुओं में बहुत कुछ कूडा़ … Continue reading आँसु एक सहज प्रार्थना है

प्रकृति के तीन नियम

प्रकृति  का पहला  नियम यदि खेत में  बीज न डालें जाएं  तो कुदरत  उसे घास-फूस  से  भर देती हैं । ठीक  उसी  तरह से  दिमाग  में सकारात्मक  विचार  न भरे  जाएँ  तो नकारात्मक  विचार  अपनी  जगह  बना ही लेती है । प्रकृति  का दूसरा  नियम जिसके  पास  जो होता है  वह वही बांटता  है। सुखी "सुख  … Continue reading प्रकृति के तीन नियम

चार कीमती रत्न

*🌾चार कीमती रत्न भेज रहा हूँ..*🌹 *मुझे पूर्ण विश्वास है कि आप इससे जरूर धनवान होंगे..!🙌🌹* *🌾1.पहला रत्न है:-* " माफी "🙏 *तुम्हारे लिए कोई कुछ भी कहे, तुम उसकी बात को कभी अपने मन में न बिठाना, और ना ही उसके लिए कभी प्रतिकार की भावना मन में रखना, बल्कि उसे माफ़ कर देना।*🙌🌹 *🌾2.दूसरा … Continue reading चार कीमती रत्न