ऐसा कौन सा कुआं है जिसमें गिरने के बाद आदमी बाहर नहीं निकल पाता ?

What kind of well is that in which man can not get out after falling? — Please see below English Translation of this post

एक बार राजा भोज के दरबार में एक सवाल उठा कि ऐसा कौन सा कुआं है जिसमें गिरने के बाद आदमी बाहर नहीं निकल पाता ? इस प्रश्न का उत्तर कोई नहीं दे पाया।

       आखिर में राजा भोज ने राज पंडित से कहा कि इस प्रश्न का उत्तर सात दिनों के अंदर लेकर आओ, वरना आपको अभी तक जो इनाम धन आदि दिया गया है,वापस ले लिए जायेंगे तथा इस नगरी को छोड़कर दूसरी जगह जाना होगा।

        छः दिन बीत चुके थे।राज पंडित को जबाव नहीं मिला था।निराश होकर वह जंगल की तरफ गया। वहां उसकी भेंट एक गड़रिए से हुई। गड़रिए ने पूछा -” आप तो राजपंडित हैं, राजा के दुलारे हो फिर चेहरे पर इतनी उदासी क्यों ?

          यह गड़रिया मेरा क्या मार्गदर्शन करेगा?सोचकर पंडित ने कुछ नहीं कहा।इसपर गडरिए ने पुनः उदासी का कारण पूछते हुए कहा -” पंडित जी हम भी सत्संगी हैं, हो सकता है आपके  प्रश्न का जवाब मेरे पास हो, अतः नि:संकोच कहिए। ” राज पंडित ने प्रश्न बता दिया और कहा कि अगर कलतक प्रश्न का जवाब नहीं मिला तो राजा नगर से निकाल देगा।

          गड़रिया बोला -” मेरे पास पारस है उससे खूब सोना बनाओ। एक भोज क्या लाखों भोज तेरे पीछे घूमेंगे।बस,पारस देने से पहले मेरी एक शर्त माननी होगी कि तुझे मेरा चेला बनना पड़ेगा।”

            राज पंडित के अंदर पहले तो अहंकार जागा कि दो कौड़ी के गड़रिए का चेला बनूं? लेकिन स्वार्थ पूर्ति हेतु चेला बनने के लिए तैयार हो गया।

            गड़रिया बोला -” *पहले भेड़ का दूध पीओ फिर चेले बनो। राजपंडित ने कहा कि यदि ब्राह्मण भेड़ का दूध पीयेगा तो उसकी बुद्धि मारी जायेगी। मैं दूध नहीं पीऊंगा। तो जाओ, मैं पारस नहीं दूंगा – गड़रिया बोला।

राज पंडित बोला -” ठीक है,दूध पीने को तैयार हूं,आगे क्या करना है ?”   गड़रिया बोला-” अब तो पहले मैं दूध को झूठा करूंगा फिर तुम्हें पीना पड़ेगा।”

राजपंडित ने कहा -” तू तो हद करता है! ब्राह्मण को झूठा पिलायेगा?” तो जाओ, गड़रिया बोला।
राज पंडित बोला -” मैं तैयार हूं झूठा दूध पीने को ।”

 गड़रिया बोला- ” वह बात गयी। अब तो सामने जो मरे हुए इंसान की खोपड़ी का कंकाल पड़ा है, उसमें मैं दूध दोहूंगा,उसको झूठा करूंगा, कुत्ते को चटवाऊंगा फिर तुम्हें पिलाऊंगा।तब मिलेगा पारस। नहीं तो अपना रास्ता लीजिए।”

राजपंडित ने खूब विचार कर कहा- ” है तो बड़ा कठिन लेकिन मैं तैयार हूं।
 गड़रिया बोला- “मिल गया जवाब। यही तो कुआं है! लोभ का, तृष्णा का जिसमें आदमी गिरता जाता है और फिर कभी नहीं निकलता। जैसे कि तुम पारस को पाने के लिए इस लोभ रूपी कुएं में गिरते चले गए।

What kind of well is that in which man can not get out after falling?

Once, in the court of King Bhoj, there was a question, which is the well where the man could not get out after falling? Nobody can answer the question.

       At last, Raja Bhoja told Raj Pandit that the answer to this question should be brought within seven days, otherwise the reward money has been given to you so far, will be withdrawn and this city has to leave and go to another place.

        Six days had passed.Raj Pandit did not get the response. After being frustrated, he went towards the forest. There he met a shepherd. Gadriya asked – “You are the king, you are the king’s bride, why so sadness on your face?

          The Pandit did not say anything, and the priest did not say anything. On this, Gradrio asked again for the reason of melancholy, saying, “Pandit ji, we are also satsangari, maybe you have the answer to your question, so be sure to say so. “Raj Pandit told the question and said that if the answer to the question is not answered then Raja will be removed from the city.

          The person said, “I have the power to make gold from him. A banquet will turn you behind the millions of banquets. Just before giving Paras, I have to admit that you will have to become my disciple. “

            Inside the Raj Pandit, first place the arrogant, that I should become a follower of the two cowards? But selfishness became ready to become a disciple for fulfillment.

            Gadariya said – “* First, drink the milk of the sheep then become a disciple. Rajpandit said that if Brahmins drink milk of sheep then their intelligence will be killed. I will not drink milk So go, I will not give it – Do not talk

Raj Pandit said – “Okay, I am ready to drink milk, what to do next?” Said Gadariya- “Now, first, I will lick milk then you will have to drink.”

Rajpandit said – “You do it! Brahmin will lie? “Then go, talk about ghadiya.
Raj Pandit said, “I am ready to drink false milk.”

 Gadariya said- “That thing happened.” Now in front of the dead person’s skull, I will give milk, I will lie, I will cheat the dog and then I will drink it. Then you will find Paras. Otherwise, take your route. “

Rajpandit thought very well- “It is very difficult but I am ready.
 Gadariya said- “Got the answer. That’s the well! Of greed, craving in which the man falls and never comes out. As you went towards falling in this greedy well in order to get Paras.

Please read this post on Android phone – GuruBox Blog App

Click_Here
Advertisements

10 thoughts on “ऐसा कौन सा कुआं है जिसमें गिरने के बाद आदमी बाहर नहीं निकल पाता ?

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s