इसलिए परिवार के बिना जीवन नहीं

  • जो *पिता* के पैरों को छूता है   वो कभी *गरीब* नहीं होता।

  • जो *मां* के पैरों को छूता है  वो कभी *बदनसीब* नही होता।

  • जो *भाई* के पैराें को छूता है  वो कभी *गमगीन* नही होता।

  • जो *बहन* के पैरों को छूता है  वो कभी *चरित्रहीन* नहीं होता।

  • जो  “गुरू ” के पैरों को छूता है उस जैसा कोई  खुशनसीब नहीं होता

  •  “परिवार” से बड़ा कोई  “धन” नहीं!

  •  “पिता” से बड़ा कोई  “सलाहकार” नहीं!     

  •  “माँ” की छाव से बड़ी  कोई “दुनिया” नहीं!

  •  “भाई” से अच्छा कोई  “भागीदार” नहीं!

  •   “बहन” से बड़ा कोई  “शुभचिंतक” नहीं!

  •   “पत्नी” से बड़ा कोई  “दोस्त” नहीं

   इसलिए  “परिवार” के बिना “जीवन” नहीं!!!

Please share this article with your friends and family members .Click_Here

Advertisements

4 thoughts on “इसलिए परिवार के बिना जीवन नहीं

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s