इंसान दूसरो को वही दे पाता है

*अभिमान तब आता है , जब हमे लगता है हमने कुछ काम किया है*
*और*
*सम्मान तब मिलता है जब दुनिया को लगता है, कि आप ने कुछ महत्वपूर्ण काम किया है*

 

*जो दूसरों को इज़्ज़त देता है , असल में वो खुद इज़्ज़तदार होता है*

  *क्योकि*

*इंसान दूसरो को वही दे पाता है , जो उसके पास होता है।*

Please share this article with your friends and family members .Click_Here

 

 

9 thoughts on “इंसान दूसरो को वही दे पाता है

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s